Sep 3, 2018

apni hindi english handwriting ko kaise sudhare writing improvement tips


Apni hindi handwriting ko kaise improve kare


कहते है एक अच्छी handwriting अच्छे व्यक्तित्व का परिचय होती है.जब कई लोगो के राइटिंग देखते है तो ऐसा लगता है जैसे इसे computer से प्रिंट करके निकला गया हो. बहुत ही आकर्षक होता है देखने में बहुत ही सुन्दर होता है.
apni handwriting kaise sudhare improve tips

अच्छी राइटिंग से लिखे शब्दों को पढने में भी मज़ा आता है और देखकर भी अच्छा लगता है.लेकिन इसके विपरीत कई लोगो की राइटिंग तो ऐसे होते है जैसे उसे 10 भाषाओ को मिलाकर लिखा गया हो.
टीचर लोग तो ख़राब राइटिंग को मुर्गे की टांग या क्या भूल भुलैया बनाये हो भी कह देते है. ऐसे समय में खुद को भी बहुत बुरा लगता है और सोचते है काश मेरी handwriting भी बहुत अच्छे से बनती.

आज इस पोस्ट के द्वारा मै शेयर करने वाला हु की कैसे हम अपनी handwriting को सुधार सकते है? यह क्यों जरुरी है? और इसके क्या क्या फायदे है?

अगर आप यह सब जानना चाहते है तो इस पोस्ट को ध्यान से और पूरी तरह से पढ़े ताकि सभी बाते आपको अच्छी से clear हो जाए. इसके पॉइंट को note करने के लिए आप अपने पास एक कागज और कलम जरुर रखे. इस पोस्ट को मैंने विस्तार से समझाने के लिए 2000+ शब्दों में लिखा है. इसे आराम से read करे. 

सुन्दर राइटिंग कैसे बनाये.

hindi हो या english देखने बस में ही बहुत सुन्दर लगता है. अगर सुन्दर शब्दों में simple बाते लिखी हो तब भी वह बहुत अच्छा लगता है. लेकिन गन्दी handwriting में बहुत अच्छी बाते लिखी हो तो उसे पढने का मन भी नहीं करता है.इसलिए राइटिंग बहुत अच्छा होना जरुरी है.

Handwriting सुन्दर होने के फायदे

लिखावट सुन्दर होने से कई तरह का फायदा होता है कई तरह के फायदों को आप भी जानते होंगे. आज इस पोस्ट में ऐसे ही कुछ फायदे भी शेयर करूँगा जिससे आपको भी कुछ प्रॉफिट हो.

·     बेस्ट लिखावट होने से इम्प्रैशन बढ़ता है. इम्प्रैशन चाहे क्लास हो या बाहर में सभी जगह बनता है. कई लोग इम्प्रेस हो जाते है only राइटिंग बेस्ट होने से.

·        व्यक्ति के बारे में नजरिया भी बढ़िया बनता है.अगर आपकी राइटिंग बहुत ही अच्छा है तो सामने वाला भी आपके बारे में good think रखता है. एक बार तारीफ जरुर होता है की बहुत ही सुन्दर राइटिंग है.


·        exam में answer chaque करने वाले का भी नजरिया बदलता है. जब आपकी लिखावट अच्छी रहेगी तब question chaque करने वाला अच्छे मन से आपकी सभी question को जाचता है. इसकी तुलना में अगर आप ख़राब राइटिंग से लिखे है तो वह पेपर जाचता है पहला सवाल गलत निकलता है तो वह उसी सवाल की तरह सभी सवाल को TRITE करता है.सुन्दर राइटिंग से गलत सवाल लिखेंगे तब भी कई बार नंबर मिल जाता है या सवाल थोडा बहुत भी हल किये है और handwriting  बेस्ट बनाये है तो chaque करने वाला कुछ ना कुछ दे देता है. इसलिए exam के नजरिये से लिखावट अच्छा होना चाहिए.

·        पढाई के प्रति लगाव भी बढ़ता है. सुन्दर लिखावट होने से मन में अपनी study के प्रति और भी लगाव बढ़ता है. उत्सुकता से homework करना अपना study work भी अच्छे से करने का मन करता है.
·        कहते है लिखावट बेस्ट होने से उसका व्यक्तित्व भी सुन्दर होता है. इसलिए अपनी लिखावट भी अच्छी बनानी चाहिए. इसके विपरीत जाये तो जिनकी लिखावट अच्छी नहीं है कहते है की उनके मन कुछ कार्यो के प्रति उदासीनता बहुत रहती है, लगाव से किशी काम को नहीं करते है,कार्य को जल्दबाजी में करने की कोशिश करते है. इसलिए अच्छे handwriting से लोगो का यह नजरिया भी बदल सकते है.

·        cool handwriting  होना बहुत ही फायदेमंद भी होता है आप जगह के हिसाब से इसका use कर सकते है. जैसे अगर आपको किशी छोटे से फॉर्म का प्रिंट out निकालना है तो अगर राइटिंग अच्छी है तो अपने हाथो से भी लिखकर निकाल सकते है, हाथो से लिख ले और उसका फोटो कॉपी करवा सकते है. इसमें अलग से आपको computer में उसे type करवाने की जरूरत नहीं पड़ेगा.

दोस्तों लिखावट सुधारना कोई मुस्किल काम नहीं है इसे आप आसानी से कुछ महीनो के अभ्यास से एक सुन्दर लिखावत बना सकते है. इसके लिए आपको कुछ ऐसे नियमो का पालन करना होगा जिससे आपके लिखावत को जल्दी से सुधारा जा सके.

इस article में इन्ही बातो पर discus करूँगा अगर आपके कोई सवाल होंगे तो आप अपने सवाल मुझे कमेंट बॉक्स में शेयर कर सकते है और कोई भी राय देना चाहते है तो दे सकते है.

Hindi mai writing kaise sudhareHandwriting improvement tips in hindi


आदत बनाना

कहते हैं अगर हमें किसी चीज की आदत हो जाती है वह चीजें हमसे हमेशा पर्फेक्ट ही होती है जैसे आपने देखा होगा किसी होटल में उस पकवान बनाने वाले को जो उस में निपुण हो जाता है और कितनी तेजी से और सफाई के साथ अपने उस कार्य को अंजाम देता है यह उसकी आदत बन जाती है वैसे ही अगर हम अपने लिखने की आदत बना लेते हैं तो हम भी इसमें निपुण हो जाते हैं अच्छी हैंडराइटिंग बनाने में लिखने की आदत होना बहुत जरूरी है क्योंकि खराब हैंडराइटिंग हमेशा उस वक्त बनती है जब इंसान बिना मन के लिखता है और अगर इसकी तुलना में सोचे कि उसको लिखने की आदत है तो हमेशा बहुत पर्फेक्ट ही लिखेगा इसलिए लिखने की आदत बनाएं daily कुछ ना कुछ लिखते रहें.

वर्णमाला लेखन

वर्णमाला लेखन अगर मैं इंग्लिश में कहूं तो अल्फाबेट को लिखना आप जिस भाषा में अपनी राइटिंग सुधारना चाहते हैं ऐसे हिंदी हो या इंग्लिश तो एक अलग से रफ कॉपी में उस अल्फाबेट को लिख लिखकर अभ्यास करना चाहिए क्योंकि इस तरह से हम लिखकर अगर प्रैक्टिस करते हैं तो हमें यह मालूम होगा कि हमें किस शब्दों को किस आकार में देना है बार बार यह प्रेक्टिस करने से जब हम लिखने बैठ जाते हैं तो हम उन्हीं आकार में उसको डाल पाते हैं 
अगर आप इंग्लिश राइटिंग सुधारना चाहते हैं तो इंग्लिश के अल्फाबेट को बार बार तीन लाइन वाले कॉपी में लिखने की कोशिश करें जिससे वह सही आकार में और सही डिजाइन में बनेंगे ऐसे ही हिंदी के शब्दों को भी आप कर सकते हैं.
तो आप कोई भी भाषा हो जिसमें आप लिखना चाहते हैं उसके वर्णमाला को लिखने की प्रेक्टिस हफ्ते में कम से कम कुछ दिन जरूर करें.

आकार

जो चीजें हमेशा क्रमबद्ध रूप से एक ही आकार में रहता है वह हमें हमेशा सुंदर लगता है चाहे गार्डन में एक समान एक ही लाइन में फूल ही क्यों ना हो एक ही लाइन में लगे हुए सुंदर पेड़-पौधे क्यों ना हो वैसे ही हमारे लिखे हुए शब्द भी होना चाहिए जब हम लिखने बैठ जाते हैं तो यह ध्यान रखें कि हमारे द्वारा लिखे गए सभी शब्द एक ही आकार में बने.

कुछ शब्द छोटे कुछ शब्द बड़े ऐसा ना बने जब हम एक ही आकार में लिखना सीख जाते हैं तब हमारे द्वारा लिखे गए शब्द भी बहुत सुंदर दिखते हैं और वह देखने वालों को भी इंप्रेस कर सकते हैं सही आकार में लिखना बहुत जरूरी है इसके लिए प्रेक्टिस करते रहना चाहिए प्रेक्टिस करते रहने से ही हम शब्दों को सही आकार में लिख सकते हैं.

आप पढ़ रहे है –

How to improve hindi handwriting


जल्दी में ना लिखें शांत मन से लिखें

कोई भी चीज़ हमेशा तभी पर्फेक्ट हो सकती है जब हम उसे अपने मन से अपने दिल से करें ज्यादा हड़बड़ी में करने से गड़बड़ी हो जाती है इसलिए जो भी काम कर रहे हैं मन से करें दिल से करें तो वह हमेशा परफेक्ट होती है हम अगर लिख रहे हैं और जल्दी जल्दी लिखने की कोशिश कर रहे हैं तो उसमें शब्दों का मिस्टेक होना मात्राओं का मिस्टेक होना जरूरी हो जाता है इसलिए हमेशा लिखने के काम को हमें मन से करना चाहिए मन लगाकर करना चाहिए  ताकि हम उस में अच्छे से ध्यान दे सके पूरा फोकस हम अपने लिखने पर कर सके शब्दों के आकार को सही तरीके से बना सकें  इससे हमारी  शब्दों को लिखने का तरीका शब्दों का साइज बहुत ही अच्छे तरीके से बनता है और हमारे द्वारा लिखी गई अक्षर बहुत ही सुंदर दिखते हैं

अच्छा पेन का इस्तेमाल करें

अच्छा पेन का इस्तेमाल करें  इससे मेरा कहने का यह मतलब नहीं है कि आप हमेशा महंगे पेन का ही इस्तेमाल करें अच्छा पेन 2 रु. वाला भी पेन हो सकता है और 10 रु. वाला भी पेन हो सकता है अच्छा पेन का मतलब है कि जो आपको लिखने में बहुत ही फ्री लगे जिस पर आपको ज्यादा जोर देना ना पड़े ऐसे पेन का ही हमेशा लिखते समय उपयोग करें चाहे उनकी कीमत कम ही क्यों न हो.

पेन से लिखने में ज्यादा दबाव लगाना पड़ता है उसमें लिखने से शब्दों के निशान पीछे पन्ने पर पड़ जाते हैं या कभी-कभी पन्ने फट जाते हैं इसलिए ऐसे पेन का ही प्रयोग करें जो लिखने में बहुत ही फ्री हो और फास्ट तरीके से चलता हो जिससे हम बहुत ही सुंदर तरीके से और एग्जाम में तेज गति से भी लिख सकते हैं साथ ही साथ हमारी हैंडराइटिंग की बहुत अच्छी तरीके से बन सके.

लिखने में सुंदरता के साथ सफाई पर भी जरूर ध्यान दें

जब लिखने बैठते हैं तो ये देखें कि शब्दों में सुंदरता है कि नहीं साथ ही साथ हमें अपने शब्दों की सफाई पर भी ध्यान देना है यानी कि ज्यादा लिखने में काट-छांट ना करें ज्यादा काट छांट करने से लिखावट की सुंदरता पूरी तरह से धूमिल हो जाती है हम कितना ही बेहतर तरीके से क्यों ना लिख रहे अगर उसमें बहुत कचर-पचर दिख रहा है तो वह पढ़ने में अच्छा नहीं लगता है इसलिए सफाई पर भी बहुत ध्यान देना चाहिए बिना काट-छांट किए हुए हमको लिखना चाहिए

शब्दों को गोलाकार बनाने में ज्यादा जोर दे

इस पॉइंट में मैं यही बताना चाहूंगा कि जब भी आप शब्दों को लिखें ऐसे लिखने का प्रयास करें कि सभी गोलाकार में बने चाहे हमारे कोई भी शब्द क्यों ना हो शब्दों को गोलाकार बनाने से शब्द बहुत सुंदर दिखते हैं अगर इसकी तुलना में आप सोचें कि अगर शब्द टेढ़े-मेढ़े हो सब का आकार अलग अलग हो तो कैसे देखेंगे इसलिए ज्यादा से ज्यादा प्रयास ही करें कि सभी शब्दों के आकार गोलाकार में बने.

शब्दों में शिरोरेखा अच्छे से बनाएं

शिरोरेखा कहने का मतलब है शब्दों के ऊपर लगे हुए विभिन्न  रेखाये जब आपक लिखने बैठते हैं तो हमें इस पॉइंट को भी नोटिस करते हुए अपने शब्दों का लेखन करना चाहिए इससे भी शब्द सुंदर और आकर्षित लगते हैं अगर आप अपने शब्दों के ऊपर टेढ़े-मेढ़े शिरोरेखा या अधूरे टूटी हुई शिरोरेखा का उपयोग करते हैं तो इससे लिखावट  कभी अच्छी नहीं लगती तो जब भी आप लिखते हैं तो अपने शब्दों के शिरोरेखा ऊपर जरूर ध्यान दें.

लिखने के लिए उपयुक्त स्थान का चयन करें बैठने की सुविधा अच्छी हो

जब भी आप लिखने को बैठे तो ऐसे जगह पर बैठे जिससे आप बेहतर तरीके से लिख पाये किसी भी प्रकार की डिस्टरबेंस ना हो जिससे आपको लिखने में तकलीफ न हो. हाथों पर या कॉपी पर दबाव न बने.

अगर आप अपने लेखन शैली को सुधारना चाहते हैं तो किसी उपयुक्त स्थान पर बैठे जिससे आपको लिखना सुलभ लगे अगर आप टेबल कुर्सी का ही प्रयोग कर रहे हैं तो नियमित ऊंचाई के टेबल से जिससे आपको लिखते बने और चेयर का प्रयोग करें कहने का मतलब यह है कि जब भी आप लिखें तो किसी बराबर जगह पर समतल जगह पर ही लेखन कार्य करें.

कोरे कॉपी नहीं लाइन वाले कॉपी का इस्तेमाल करें

जब अगर हम हिंदी के शब्दों का लेखन करने बैठते हैं तो हमें बिना लाइन वाले काफी इस्तेमाल करने की बजाय हमें लाइन वाले कापी का इस्तेमाल करना चाहिए जिससे सभी शब्द हमारे एक सीध में बने

हमें शब्दों को आकार में बनाने का अभ्यास हो जाता है अगर हम बिना लाइन वाले कॉपी में बनाते हैं तो हमारे जो शब्दों का क्रम है लाइन से नहीं बनता है शब्द आगे पीछे हो जाते हैं हम शब्दों के आकार को ठीक से अनुमान नहीं लगा पाते है.

वैसे ही जब हम अंग्रेजी के शब्दों का लेखन करते हैं तब भी हमें बिना लाइन वाली कॉपी का प्रयोग शुरुआत में करने की बजाय 3 लाइन वाले काफी का प्रयोग करना चाहिए इसमें मैंने ऊपर भी बताया था कि मैं अल्फाबेट की प्रैक्टिस भी करना चाहिए तो अंग्रेजी के लेखन के लिए भी हमें लाइन वाले काफी का ही यूज करना चाहिए जिससे हमारे शब्दों का आकार , शब्दों की दूरी और शब्दों का क्रम सही तरीके से बने।
जिससे हैंडराइटिंग बहुत अच्छी तरीके से सुधर सके

सारांस

आपने जाना –

How to make beautiful handwriting in hindi


तो दोस्तों इस तरीके से आप अपने द्वारा लिखे गए शब्दों को बहुत ही सुंदर बना सकते हैं अगर ऊपर में दिए गए इन सभी प्वाइंटों में से  कुछ ही पॉइंट को ही फॉलो करेंगे तो आप अपने हैंडराइटिंग को बहुत ही अच्छा बना सकते हैं कहते हैं ना कि अगर हमें किसी काम को बेहतर तरीके से करना है तो अभ्यास बहुत जरूरी है तो आप भी दिन-रात अभ्यास करते रहिए आपकी हैंडराइटिंग बहुत ही अच्छी हो जाएगी।

रोज कुछ ना कुछ पन्ने लिखने की प्रेक्टिस करते रहिए और बिल्कुल जल्दबाजी में ना लिखें धैर्य बनाकर लिखें और आराम से कम से कम 4 से 5 पन्नों को लिखते रहें धीरे धीरे सुधर जाएगी.

यह कोई ऐसा काम नहीं है जो होगा ही नहीं एक बार जरा इसे दिल से लगा कर करने की कोशिश कीजिए यह जरूर हो जाएगा.

अगर आप हमारे द्वारा बताए गए इन पॉइंट में से किसी पॉइंट पर सवाल पूछना चाहते हैं या आपके कोई राय होंगे तो आप हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं या आप कोई और टॉपिक शामिल करना चाहते हैं तो आप हमें अपने सुझाव इस साइड के कमेंट बॉक्स में दे सकते हैं

आपको मेरा यह पोस्ट सुंदर हैंडराइटिंग कैसे बनाएं कैसा लगा जरूर बताएं अगर यह आपको अच्छा लगा होगा तो इसे अपने दोस्तों को जरुर शेयर करें।

जरुर रीड करे 


No comments:

Post a Comment